Who is Shani Dev? - कौन हैं शनिदेव

Shani Dev is considered to be the son of the Sun and the giver of karma. But at the same time, the enemy of the ancestors. There are many misconceptions regarding Saturn, which is why it is considered an antidote, inauspicious, and a cause of sorrow.

Who is Shani Dev?

Read कौन हैं शनिदेव

Fri, Feb 09, 2024
161
100

ॐ शं शनैश्चराय नमः

Techthastu Website Developer

वैदूर्य कांति रमल:, प्रजानां वाणातसी कुसुम वर्ण विभश्च शरत:।
अन्यापि वर्ण भुव गच्छति तत्सवर्णाभि सूर्यात्मज: अव्यतीति मुनि प्रवाद:॥

भावार्थ:- शनि ग्रह वैदूर्यरत्न अथवा बाणफ़ूल या अलसी के फ़ूल जैसे निर्मल रंग से जब प्रकाशित होता है, तो उस समय प्रजा के लिये शुभ फ़ल देता है यह अन्य वर्णों को प्रकाश देता है, तो उच्च वर्णों को समाप्त करता है, ऐसा ऋषि, महात्मा कहते हैं।

शनि ग्रह के प्रति अनेक आखयान पुराणों में प्राप्त होते हैं। शनिदेव को सूर्य पुत्र एवं कर्मफल दाता माना जाता है। लेकिन साथ ही पितृ शत्रु भी.शनि ग्रह के सम्बन्ध मे अनेक भ्रान्तियां और इस लिये उसे मारक, अशुभ और दुख कारक माना जाता है। पाश्चात्य ज्योतिषी भी उसे दुख देने वाला मानते हैं। लेकिन शनि उतना अशुभ और मारक नही है, जितना उसे माना जाता है। इसलिये वह शत्रु नही मित्र है। मोक्ष को देने वाला एक मात्र शनि ग्रह ही है। सत्य तो यह ही है कि शनि प्रकृति में संतुलन पैदा करता है, और हर प्राणी के साथ उचित न्याय करता है। जो लोग अनुचित विषमता और अस्वाभाविक समता को आश्रय देते हैं, शनि केवल उन्ही को दण्डिंत (प्रताडित) करते हैं। अनुराधा नक्षत्र के स्वामी शनि हैं।

धर्मग्रंथो के अनुसार सूर्य की पत्नी संज्ञा की छाया के गर्भ से शनि देव का जन्म हुआ, जब शनि देव छाया के गर्भ में थे तब छाया भगवान शंकर की भक्ति में इतनी ध्यान मग्न थी की उसने अपने खाने पिने तक की शुध नहीं थी जिसका प्रभाव उसके पुत्र पर पड़ा और उसका वर्ण श्याम हो गया !शनि के श्यामवर्ण को देखकर सूर्य ने अपनी पत्नी छाया पर आरोप लगाया की शनि मेरा पुत्र नहीं हैं ! तभी से शनि अपने पिता से शत्रु भाव रखते थे ! शनि देव ने अपनी साधना तपस्या द्वारा शिवजी को प्रसन्न कर अपने पिता सूर्य की भाँति शक्ति प्राप्त की और शिवजी ने शनि देव को वरदान मांगने को कहा, तब शनि देव ने प्रार्थना की कि युगों युगों में मेरी माता छाया की पराजय होती रही हैं, मेरे पिता सूर्य द्वारा अनेक बार अपमानित किया गया हैं ! अतः माता की इच्छा हैं कि मेरा पुत्र अपने पिता से मेरे अपमान का बदला ले और उनसे भी ज्यादा शक्तिशाली बने ! तब भगवान शंकर ने वरदान देते हुए कहा कि नवग्रहों में तुम्हारा सर्वश्रेष्ठ स्थान होगा ! मानव तो क्या देवता भी तुम्हरे नाम से भयभीत रहेंगे !

भारत में तीन चमत्कारिक शनि सिद्ध पीठ (Shani Dev Siddh Peeth Temple)

शनि के चमत्कारिक सिद्ध पीठों में तीन पीठ ही मुख्य माने जाते हैं, इन सिद्ध पीठों मे जाने और अपने किये गये पापॊं की क्षमा मागने से जो भी पाप होते हैं उनके अन्दर कमी आकर जातक को फ़ौरन लाभ मिलता है। जो लोग इन चमत्कारिक पीठों को कोरी कल्पना मानते हैं, उअन्के प्रति केवल इतना ही कहा जा सकता है, कि उनके पुराने पुण्य कर्मों के अनुसार जब तक उनका जीवन सुचारु रूप से चल रहा तभी तक ठीक कहा जा सकता है, भविष्य मे जब कठिनाई सामने आयेगी, तो वे भी इन सिद्ध पीठों के लिये ढूंढते फ़िरेंगे, और उनको भी याद आयेगा कि कभी किसी के प्रति मखौल किया था। अगर इन सिद्ध पीठों के प्रति मान्यता नही होती तो आज से साढे तीन हजार साल पहले से कितने ही उन लोगों की तरह बुद्धिमान लोगों ने जन्म लिया होगा, और अपनी अपनी करते करते मर गये होंगे.लेकिन वे पीठ आज भी ज्यों के त्यों है और लोगों की मान्यता आज भी वैसी की वैसी ही है।

Shani Dev Siddh Peeth Temple

Three Pirani are considered to be the main ones in the miraculous Siddha thread of Saturn. By going to these Siddha thread and asking for forgiveness of the sins received from them, whatever sin is committed, their imbalanced deficiency gives complete benefit to the people. All that can be said about those who consider these miraculous accomplishments as mere imagination is that as long as their life was going on smoothly according to their past virtuous deeds, it can be said that in the future when supernatural If you come in front of them, they will also be searching for these proven achievements, and yet they will remember that they once made fun of someone. If these accomplished achievements were not compensated, people with intelligence like those people would have been born three thousand years ago, and would have died doing their respective jobs. People's principles are still people's sayings.

Also Known As
Related Story
Lakshmi ji ki Aarti
Lakshmi ji ki Aarti

श्री लक्ष्मी जी की आरती - Lakshmi ji ki Aarti

Saraswati Mata Aarti: Hindu Deity Worship and Prayer
Saraswati Mata Aarti: Hindu Deity Worship and Prayer

सरस्वती माँ की आरती - Saraswati Mata Aarti: Hindu Deity Worship and Prayer

Ambe Ji Ki Aarti (Durga Aarti)
Ambe Ji Ki Aarti (Durga Aarti)

अम्बे जी की आरती - Ambe Ji Ki Aarti (Durga Aarti)

Shri Ganga Ji Aarti
Shri Ganga Ji Aarti

श्री गंगा जी की आरती - Shri Ganga Ji Aarti

51 Shakti Peeth Name and Temple Place
51 Shakti Peeth Name and Temple Place

51 शक्तिपीठ के नाम और जगह - 51 Shakti Peeth Name and Temple Place

Naina Devi
Naina Devi

नैना देवी - Naina Devi

Mata Mota Ambaji Shaktipeeth
Mata Mota Ambaji Shaktipeeth

मोटा अम्बाजी - Mata Mota Ambaji Shaktipeeth