Sankat Nashak Ganesh Stotra - संकट नाशक गणपति स्त्रोत का अर्थ

Sankat Nashak Ganesh Stotra in Hindi ka meaning kya hai? Bhagat ki icchao ko puran karne shree Goriputar Vinayak Ji ke samne sir jhukakar unka nitya smaran kare
Sankat Nashak Ganesh Stotra

संकट नाशक गणपति स्त्रोत का अर्थ

संकटनाशन गणेश स्तोत्र: (Sankat Nashak Ganesh Stotra)

प्रणम्य शिरसा देवं गौरी विनायकम् ।
भक्तावासं स्मेर नित्यमाय्ः कामार्थसिद्धये ॥१॥

प्रथमं वक्रतुडं च एकदंत द्वितीयकम् ।
तृतियं कृष्णपिंगात्क्षं गजववत्रं चतुर्थकम् ॥२॥

लंबोदरं पंचम च पष्ठं विकटमेव च।
सप्तमं विघ्नराजेंद्रं धूम्रवर्ण तथाष्टमम् ॥३॥

नवमं भाल चंद्रं च दशमं तु विनायकम् ।
एकादशं गणपतिं द्वादशं तु गजानन् ॥४॥

द्वादशैतानि नामानि त्रिसंघ्यंयः पठेन्नरः।
न च विघ्नभयं तस्य सर्वसिद्धिकरं प्रभो ॥५॥

विद्यार्थी लभते विद्यां धनार्थी लभते धनम् ।
पुत्रार्थी लभते पुत्रान्मो क्षार्थी लभते गतिम् ॥६॥

जपेद्णपतिस्तोत्रं षडिभर्मासैः फलं लभते ।
संवत्सरेण सिद्धिंच लभते नात्र संशयः ॥७॥

अष्टभ्यो ब्राह्मणे भ्यश्र्च लिखित्वा फलं लभते ।
तस्य विद्या भवेत्सर्वा गणेशस्य प्रसादतः ॥८॥

॥ इति श्री नारद पुराणे संकष्टनाशनं नाम श्री गणपति स्तोत्रं संपूर्णम् ॥

 

संकष्टनाशन गणपति - स्तोत्र का अर्थ

  1. Pranamya Shirsa Devam Gauri Vinayakam ।
    Bhaktavasam smer nityamayah kamarthasiddhaye ॥१॥
    (भक्तों की इच्छाएँ पूर्ण करने वाले गौरीपुत्र विनायक के सामने मस्तक (शीश) झुकाकर, उनका नित्य स्मरण कीजिए।)
  2. Prathamam vakratudam che ekadant dvitiyakam।
    tritiyam krishnpingatksam Gajavavatram caturthakam ॥२॥
    (पहला नाम वक्रतुंड, दूसरा एकदंत, तीसरा कृष्णपिंगाक्ष और चौथा गजवक्र है।)
  3. Lambodaram Pancham Cha Pashtam Vikatmeva Ch ।
    Seventh Vighnarajendram Dhumravarna Tathashtam ॥३॥
    (लंबोदर है पाँचवाँ, छठा विकट, विघ्नराजेंद्र सातवाँ और धूम्रवर्ण आठवाँ नाम है।)
  4. Navam bhal chandram cha dasham tu vinayakam ।
    Ekadasham gaṇapatim duadasham tu gajanan॥४॥
    (नौवाँ भालचंद्र, दसवाँ विनायक, ग्यारहवाँ गणपति और बारहवाँ गजानन।)
  5. Duadashaitani namani trisanghyanyah pathennarah
    Na ca vighnabhayam tasya sarvasidhikarm prabho ॥५॥
    (इन बारह नामों से जो प्रातः, दोपहर आर सायंकाल को तीन बार सभी सिद्धि प्रदान करने वाले प्रभ का चिंतन करते हैं उन्हें किसी भी विघ्न का सामना करना नहीं पड़ता।)
  6. Vidyarthi Labhte Vidyam Dhanarthi Labhte Dhanam.
    Putararthi Labhte Putranmo Ksharthi Labhte Gatim ॥६॥
    (जिसे जान की इच्छा हो उसे जान, जिसे संपत्ति की इच्छा हो उसे संपत्ति, जिसे पुत्र की इच्छा हो उसे पुत्र और मुमुक्षु को मोक्ष की प्राप्ति होती है।)
  7. Japednapatistotram shadibharmasaiah fruitful results.
    Samvatsarena Siddhichna Labhte Natra Doubt ॥७॥
    (जो भी इस गणपति स्तोत्र का प्रतिदिन पाठ करेगा उसे छः महीनों में ही उपरोक्त लाभ प्राप्त होंगे और जो भी एक साल तक इस स्तोत्र का पाठ करेगा उसे नि:संदेह सिद्धि प्राप्त होगी।)
  8. Ashtabhyo Brahmane bhyashrcha likitva phalaṁ labhatē.
    Tasya Vidya Bhavetsarva Ganeshasya Prasadatah ॥८॥
    (यह स्तोत्र लिखकर जो आठ ब्राह्मणों को समर्पित करेगा वह गणेशजी की कृपा से विद्वान होगा।)

जो भी इस गणेश स्तोत्र का एक ही बैठक में 144 बार एकाग्रता से पाठ करेगा उसकी कोई भी मनोकामना पूर्ण होगी। ऐसी इस स्तोत्र की महिमा है।

Like Us On Facebook | Follow Us On Instagram

More For You


Bhagwan App Logo  Install App from Play Store Now.