Navratri Vrat Tyohar - नवरात्रि पर्व

Navratri vrat a festival dedicated to Durga Mata, will start on 26 September 2022. In these nine days dedicated to Mata Durga, nine different forms of the Shakti are worshipped.

Navratri Vrat Tyohar

नवरात्रि पर्व

Dada Lakhmi Movie 2022

भारत त्योहारों का देश है, जहाँ हर त्योहार का अपना अलग महत्व है, उसी तरह दुर्गा माता को समर्पित पर्व नवरात्रि 26 सितंबर 2022 से प्रारंभ हो जायँगे। माँ दुर्गा को समर्पित इन नौ दिनों में माँ के नौ अलग रूपों की आराधना की जाती है, सभी भगतो को नवरात्रि व्रत का बेसब्री से इन्तजार रहता हैं। भगत जन नवरात्रि के पर्व पर अपने घर और मंदिर को स्वच्छ और सुन्दर तरह से सजाते है। नवरात्रि पर चारो तरफ भक्ति का माहौल बना रहता हैं। पूरा परिवार सुख शांति और सभी पर माता रानी का आशिर्वाद बना रहे इस तरह की मनोकामना से व्रत रखते व पूजन करते है। माता रानी खुश होकर सभी की मनोकामना पूर्ण करती हैं।

शेरों वाली माता को लाल रंग की चुनरी और श्रृंगार आदि चढ़ाया जाता हैं, जो कन्या पूजन के दिन माँ दुर्गा के रूप में पूजी जाने वाली कन्या को भेट स्वरूप दे दी जाती है। नवरात्रों के दिनों में देश के कुछ हिस्सों में माँ दुर्गा की मूर्ति भी पूजी जाती है तथा उत्तर भारत में माँ दुर्गा की सांझी(मूर्ति) बनाने का भी प्रचलन है।

नवरात्रि व्रत 9 दिन के लिए बड़े ही धुम-धाम से मनाया जाता है, जिसमे श्रद्धालु अपने घर में घट स्थापना करते हुए ज्यो (जौ) बोते हैं, पहले ही दिन घी या तेल की अखंड ज्योत प्रज्जवलित की जाती है, जो लगातार 9 दिनों तक प्रज्जवलित रहती है।

नवरात्रि के 9 दिनों तक घर में न तो लहसुन प्याज़ का खाना बनता हैं और न ही तामसिक भोजन ग्रहण किया जाता हैं सिर्फ वैष्णो भोजन ग्रहन करना अति उत्तम बताया गया है। जो व्यक्ति व्रत कर रहा हो इन दिनों जमीन पर ही सोना अच्छा माना जाता हैं। इस समय जगह जगह दुर्गा पंडाल लगाए जाते है जहाँ सभी मिलकर माता रानी की पूजा व आराधना करते हैं।

साल में पड़ती हैं चार बार नवरात्रि

अश्वनी माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से नवरात्रि की शुरुआत होती है सालभर में 4 बार नवरात्रि पड़ती है जिनमें से 2 गुप्त नवरात्रि और 2 प्रत्यक्ष नवरात्रि कहलाती हैं

नवरात्रि के पहले दिन शुभ मुहूर्त में घट स्थापना का विधान है अधिष्ठात्री देवी दुर्गा की पूजा-अर्चना के साथ पहले दिन कलश स्थापना और व्रत का विधान है. नवमी और दशमी पर कन्या पूजन, कलश और प्रतिमा का विसर्जन किया जाता है

कब से नवरात्रि व्रत प्रारंभ हो रहे है?

शरद नवरात्रि की शुरुआत

26 सितंबर 2022 - दिन-सोमवार

नवरात्रि का समापन

5 अक्टूबर 2022

हाथी पर होकर आएंगी मां दुर्गा सवार

देवी पुराण में कहा गया है यदि नवरात्रि रविवार, सोमवार से प्रारंभ हो तो मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आती हैं। शनि, मंगल को घोड़े पर, गुरु एवं शुक्र को डोली में तथा बुध को नाव में सवार होकर आती हैं। इस बार मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आएंगी हर साल मां अलग-अलग वाहनों पर सवार होकर आती है. मां का हर वाहन विशेष संदेश देता है। हाथी पर सवार होने से पूरी विश्व में सुख समृद्धि, सदाचार बढेगी। ऐसे में इस बार शारदीय नवरात्रि पूरे देश के लिए शुभ साबित होगी।

घटस्थापना का शुभ मुहूर्त

 

26 सितंबर सुबह 06 बजकर 20 मिनट से 10 बजकर 19 मिनट तक

शुक्ल पक्ष प्रतिपदा प्रांरभ

26 सितंबर सुबह 3 बजकर 24 मिनट से 27 सितंबर सुबह 03 बजकर 08 मिनट तक

अभिजीत मुहूर्त

26 सितंबर सुबह 11 बजकर 54 मिनट से दोपहर 12 बजकर 42 मिनट तक

शारदीय नवरात्रि की डेट

  1. 26 सितंबर 2022: पहला दिन मां शैलपुत्री पूजा - प्रतिपदा तिथि-घटस्थापना
  2. 27 सितंबर 2022: दूसरा दिन-मां ब्रह्मचारिणी पूजा
  3. 28 सितंबर 2022: तीसरा दिन-मां चंद्रघंटा पूजा
  4. 29 सितंबर 2022: चौथा दिन -मां कुष्मांडा पूजा , विनायक चतुर्थी, उपांग ललिता व्रत
  5. 30 सितंबर 2022: पांचवां दिन -मां स्कंदमाता पूजा
  6. 1 अक्टूबर 2022: छठा दिन -माता कात्यायनी पूजा
  7. 2 अक्टूबर 2022: सातवां दिन -मां कालरात्रि पूजा
  8. 3 अक्टूबर 2022: आठवां दिन -दुर्गा अष्टमी, महागौरी पूजा, महानवमी
  9. 4 अक्टूबर 2022: नौवां दिन -महानवमी-शारदीय नवरात्रि का पारण
  10. 5 अक्टूबर 2022: दसवां दिन-दशमी तिथि-दुर्गा विसर्जन और विजयादशमी (दशहरा)

India is a country of festivals, where every festival has its own importance, in the same way, Navratri, a festival dedicated to Durga Mata, will start on 26 September 2022. In these nine days dedicated to Maa Durga, nine different forms of the mother are worshipped, and all the devotees eagerly wait for the Navratri fast. Bhagat people decorate their houses and temple in a clean and beautiful way on the festival of Navratri. There is an atmosphere of devotion all around during Navratri. The whole family observes fast and worships with such a wish to keep happiness, peace, and blessings of Mother Queen on everyone. Mata Rani gets happy and fulfills everyone's wishes.

Red colored chunari and makeup etc. are offered to the mother with lions, which are given as a gift to the girl who is worshiped as Maa Durga on the day of Kanya Puja. The idol of Maa Durga is also worshiped in some parts of the country during Navratras and there is also a practice of making Sanjhi (Idol) of Maa Durga in North India.

Navratri fast is celebrated with great pomp for 9 days, in which devotees sow Jyo (barley) while setting up a Ghat in their house, on the very first day, an unbroken flame of ghee or oil is lit, which continues for 9 consecutive days. Till it stays lit.

Support Us On


More For You

Bhagwan App Logo  Install App from Play Store Now.