Kanakadhara Stotram - कनकधारा स्त्रोत

Kanakadhara Stotram Written by Adi Shankaracharya - Kanakadhara Stotram means a stream of gold, Kanakdhara Strot was composed by Adi guru Shankaracharya

Kanakadhara Stotram

कनकधारा स्त्रोत

आदि शंकराचार्य का कनकधारा स्तोत्रम दुखों को दूर करने और आर्थिक सहायता का वरदान देने के लिए देवी माता लक्ष्मी पर 21 मधुर भजन हैं। कनकधारा स्तोत्रम एक शक्तिशाली संस्कृत भजन है जो देवी लक्ष्मी, समृद्धि की देवी, धन, उर्वरता, सौभाग्य और साहस को समर्पित है। देवी महालक्ष्मी भगवान विष्णु की दिव्य पत्नी हैं और माना जाता है कि वे अपने भक्तों को जीवन में सभी प्रकार के कष्ट और धन संबंधी दुखों से बचाती हैं।

श्री कनकधारा स्तोत्र गुरु आदि शंकराचार्य द्वारा रचित है, जो एक महान भारतीय दार्शनिक थे जिन्होंने अपने गुरु की आज्ञा से अद्वैत वेदांत दर्शन की शुरुआत की थी। ऐसा माना जाता है कि आदि शंकराचार्य ने देवी लक्ष्मी की स्तुति में श्री कनकधारा स्तोत्रम की रचना की और देवी से एक गरीब महिला पर धन बरसाने की प्रार्थना की और माता लक्ष्मी ने गुरु आदि शंकराचार्य की प्रार्थना को स्वीकार करते हुए इस शक्तिशाली कनकधारा स्त्रोतम को अपना प्रिय स्तुति का स्थान दिया।

कनकधारा स्त्रोत लाभ Kanakadhara Stotram Benefits

who wrote kanakadhara stotram?

कनकधारा का अर्थ होता है स्वर्ण की धारा, कनकधारा स्तोत्र की रचना आदिगुरु शंकराचार्य जी ने की थी। कहते हैं कि इस स्तोत्र के द्वारा माता लक्ष्मी को प्रसन्न करके उन्होंने सोने की वर्षा कराई थी। सिद्ध मंत्र होने के कारण कनकधारा स्तोत्र का पाठ शीघ्र फल देनेवाला और दरिद्रता का नाश करनेवाला है।
कनकधारा स्तोत्र के नियमित पाठ से धन संबंधी सभी प्रकार की बाधाएं दूर होती हैं और महालक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है।

॥ श्री कनकधारा स्तोत्र ॥ (Kanakdhara Strotam Sanskrit)

अङ्ग हरेः पुलकभूषणमाश्रयन्ती भृङ्गाङ्गनेव मुकुलाभरणं तमालम् ।
अङ्गीकृताखिलविभूतिरपाङ्गलीला माङ्गल्यदास्तु मम मङ्गलदेवतायाः ॥1॥

अर्थ

जैसे भौंरा अर्ध-खिले कुसुम से सुशोभित तामल वृक्ष की शरण लेता है, वैसे ही जो श्रीहरि के रोमांच से सुशोभित श्री अंगों पर गिरता रहता है और जिसमें सभी ऐश्वर्य निवास करते हैं, वह अधिष्ठात्री देवी महालक्ष्मी का कटाक्ष है। सभी मंगल के देवता, मेरे लिए धन्य हो।

Means

As the bumblebee takes shelter of the Tamal tree adorned with half-bloomed safflowers, similarly the one who keeps on falling on the Sri limbs adorned with the thrill of Srihari and in whom all the opulence abides, is the sarcasm of Goddess Mahalakshmi, the presiding deity of all Mars, Be blessed for me.

मुग्धा मुहुर्विदधती वदने मुरारेः
प्रेमत्रपाप्रणिहितानि गतागतानि ।
माला दृशोर्मधुकरीव महोत्पले या सा मे श्रियं दिशतु सागरसम्भवायाः ॥2॥

अर्थ

जैसे भ्रमरी आता-जाता रहता है या कमल के विशाल पुष्प पर मँडराता रहता है, उसी प्रकार मुरशत्रु बार-बार प्रेम से श्री हरि के मुख पर जाता है और लज्जा के कारण लौट आता है, समुद्र के सुन्दर नेत्रों की सुन्दर माला कन्या लक्ष्मी मुझे धन और धन प्रदान करें।

विश्वामरेन्द्रपदविभ्रमदानदक्ष – मानन्दहेतुरधिकं मुरविद्विषोऽपि ।
ईषन्निषीदतु मयि क्षणमीक्षणार्ध – मिन्दीवरोदरसहोदरमिन्दिरायाः ॥3॥

अर्थ

जो समस्त देवताओं के अधिपति इन्द्र के पद का ऐश्वर्य प्रदान करने में समर्थ है, जो मुरारी श्री हरि को अधिकाधिक आनन्द प्रदान करता है, और वह नीलकमल के आन्तरिक भाग के समान सुन्दर है। वह लक्ष्मीजी की अधखुले नयन मुझ पर भी एक पल के लिए अवश्य रहें।

Means

One who is capable of bestowing the opulence of the position of Indra, the ruler of all the deities, the one who bestows more and more joy to Murari Shri Hari, and she looks as beautiful as the inner part of the Neelkamal, the eyes of Lakshmiji's half-opened eyes Must be on me for a little moment.

आमीलिताक्षमधिगम्य मुदा मुकुन्द - मानन्दकन्दमनिमेषमनङ्गतन्त्रम् ।
आकेकरस्थितकनीनिकपक्ष्मनेत्रं भूत्यै भवेन्मम भुजङ्गशयाङ्गनायाः ॥4॥

अर्थ

शेषशायी भगवान विष्णु की पत्नी श्री लक्ष्मी जी का वह नेत्र हमें ऐश्वर्य प्रदान करे, जिसकी आंखे और भौहें प्रेम से आधी खुली हैं, लेकिन साथ ही, आनंदकांड श्रीमुकुंद को, जो स्पष्ट आंखों से देखता है, उसके पास थोड़ा तिरछा हो जाता है।

Means

May that eye of Sheshsayee Lord Vishnu's wife Shri Lakshmi ji bestows us with opulence, whose iris and eyebrows are half-opened out of love, but at the same time, seeing Anandkand Shrimukunda, who sees with clear eyes, becomes a little skewed near her.

बाह्वन्तरे मधुजितः श्रितकौस्तुभे या हारावलीव हरिनीलमयी विभाति ।
कामप्रदा भगवतोऽपि कटाक्षमाला
कल्याणमावहतु मे कमलालयायाः ॥5॥
अर्थ – जो मधुसूदन भगवान के कौस्तुभमणि में सुशोभित हैं, इंद्र-निलमयी हरावली की तरह भगवान मधुसूदन की छाती में सुशोभित हैं और जो भगवान मधुसूदन मन में प्रेम का संचार करते हैं, कमलकुंजवासिनी कमला की कटाक्षमाला मुझे आशीर्वाद दे।
Means – The one who is adorned in the Kaustubhamani garlanded chest of Lord Madhusudan like Indra-Nilmayi Haravali and who infuses love in his mind, may the garland of Kamalkunjwasini Kamala bless me.

कालाम्बुदालिललितोरसि कैटभारे –
र्धाराधरे स्फुरति या तडिदङ्गनेव ।
मातुः समस्तजगतां महनीयमूर्ति –
र्भद्राणि मे दिशतु भार्गवनन्दनायाः ॥6॥
अर्थ – जैसे मेघों की घटा में बिजली चमकती है, उसी प्रकार जो कैटभशत्रु श्रीविष्णु के काली मेघमाला के समान श्यामसुन्दर वक्षस्थल पर प्रकाशित होती हैं, जिन्होंने अपने आविर्भाव से भृगुवंश को आनन्दित किया है तथा जो समस्त लोकों की जननी हैं, उन भगवती लक्ष्मी की पूजनीया मूर्ति मुझे कल्याण प्रदान करे।

प्राप्तं पदं प्रथमतः किल यत्प्रभावान्
माङ्गल्यभाजि मधुमाथिनि मन्मथेन।
मय्यापतेत्तदिह मन्थरमीक्षणार्धं
मन्दालसं च मकरालयकन्यकायाः ॥7॥
अर्थ – समुद्रकन्या कमला की वह मन्द, अलस, मन्थर और अर्धोन्मीलित दृष्टि, जिसके प्रभाव से कामदेव ने मंगलमय भगवान मधुसूदन के हृदय में प्रथम बार स्थान प्राप्त किया था, यहाँ मुझपर पड़े।

दद्याद् दयानुपवनो द्रविणाम्बुधारा –
मस्मिन्नकिञ्चनविहङ्गशिशौ विषण्णे।
दुष्कर्मघर्ममपनीय चिराय दूरं
नारायणप्रणयिनीनयनाम्बुवाहः ॥8॥
अर्थ – भगवान नारायण की प्रेयसी लक्ष्मी का नेत्ररूपी मेघ दयारूपी अनुकूल पवन से प्रेरित हो दुष्कर्मरूपी घाम को चिरकाल के लिए दूर हटाकर विषाद में पड़े हुए मुझ दीनरूपी चातक पर धनरूपी जलधारा की वृष्टि करे।

इष्टा विशिष्टमतयोऽपि यया दयार्द्र –
दृष्ट्या त्रिविष्टपपदं सुलभं लभन्ते।
दृष्टिः प्रहृष्टकमलोदरदीप्तिरिष्टां
पुष्टिं कृषीष्ट मम पुष्करविष्टरायाः ॥9॥
अर्थ – वह विशेष बुद्धि वाला व्यक्ति, जो प्रेम का प्रेमी बन जाता है और उसकी दया के प्रभाव में आसानी से स्वर्गीय स्थान प्राप्त कर लेता है, पद्मासन पद्मा की वह उज्ज्वल दृष्टि मुझे वांछित पुष्टि दे।
Means – May that man of special intelligence, who becomes a lover of love and easily attains the heavenly position under the influence of His mercy, may that very gleaming vision of Padmasana Padma give me the desired confirmation.

गीर्देवतेति गरुडध्वजसुन्दरीति
शाकम्भरीति शशिशेखरवल्लभेति।
सृष्टिस्थितिप्रलयकेलिषु संस्थितायै
तस्यै नमस्त्रिभुवनैकगुरोस्तरुण्यै ॥10॥
अर्थ – जो सृष्टि-लीला के समय ब्रह्म शक्ति के रूप में स्थित हैं, लीला करते हुए वैष्णवी शक्ति के रूप में विराजमान हैं और प्रलय-लीला के समय में रुद्रशक्ति के रूप में स्थित हैं, जो उनमें से एकमात्र गुरु हैं। त्रिभुवन भगवान नारायण प्रिय श्रीलक्ष्मीजी को नमस्कार।
Means – Those who are situated in the form of Brahma shakti at the time of creation-Lila, sit in the form of Vaishnavi Shakti while performing the pastimes and are situated in the form of Rudrashakti during the time of Pralay-Lila, the only Guru of those Tribhuvans is Lord Narayana. Salutations to the beloved Srilakshmiji.

श्रुत्यै नमोऽस्तु शुभकर्मफलप्रसूत्यै
रत्यै नमोऽस्तु रमणीयगुणार्णवायै।
शक्त्यै नमोऽस्तु शतपत्रनिकेतनायै
पुष्ट्यै नमोऽस्तु पुरुषोत्तमवल्लभायै ॥11॥
अर्थ – हे माता ! अच्छे कर्मों का फल देने वाली श्रुति के रूप में मैं तुम्हें प्रणाम करता हूँ। रमणीय गुणों की सिन्धुरूप रति के रूप में आपको नमस्कार। कमल वन में निवास करने वाली लक्ष्मी और पुरुषोत्तमप्रिय पुष्टि को नमस्कार।
Means – O Mother! I salute you in the form of Shruti, who gives the fruits of good deeds. Salutations to you in the form of Sindhuroop Rati of delightful qualities. Salutations to Lakshmi, who resides in the lotus forest, and to Purushottampriya Pushti.

नमोऽस्तु नालीकनिभाननायै
नमोऽस्तु दुग्धोदधिजन्मभूत्यै।
नमोऽस्तु सोमामृतसोदरायै
नमोऽस्तु नारायणवल्लभायै ॥12॥
अर्थ – कमलवदना कमला को प्रणाम है। क्षीरसिंधु संभूता श्रीदेवी को नमन। चंद्र और सुधा की सगी बहन को नमस्कार। भगवान नारायण के वल्लभ को नमस्कार।
Means – Kamalavadana is a salutation to Kamala. Salutation to Kshirasindhu Sambhuta Sridevi. Greetings to the real sister of Chandra and Sudha. Salutations to the Vallabha of Lord Narayana.

सम्पत्कराणि सकलेन्द्रियनन्दनानि
साम्राज्यदानविभवानि सरोरुहाक्षि।
त्वद्वन्दनानि दुरिताहरणोद्यतानि
मामेव मातरनिशं कलयन्तु मान्ये ॥13॥
अर्थ – कमल के समान नेत्रों वाली आदरणीय माता! आपके चरणों में की गई पूजा धन प्रदान करती है, सभी इंद्रियों को सुख देती है, राज्य देने में सक्षम है और सभी पापों को हरने के लिए पूरी तरह तैयार है। मुझे सदैव आपके चरणों में प्रणाम करने का शुभ अवसर मिले।
Means –Honorable mother with lotus-like eyes! The veneration done at your feet, bestows wealth, gives pleasure to all the senses, is capable of giving kingdom and is fully ready to take away all sins. May I always get the auspicious opportunity of worshiping your feet.

यत्कटाक्षसमुपासनाविधिः
सेवकस्य सकलार्थसम्पदः।
संतनोति वचनाङ्गमानसै –
स्त्वां मुरारिहृदयेश्वरीं भजे ॥14॥
अर्थ – मैं मन, वचन और शरीर से उसी लक्ष्मीदेवी की पूजा करता हूं, जो श्री हरि की हृदयेश्वरी हैं, जिनकी कृपा के लिए की गई पूजा से सभी इच्छाओं और संपत्तियों का विस्तार होता है।
Means – I worship with my mind, speech, and body the same Lakshmidevi, the Hridayeswari of Sri Hari, whose worship done for the sake of grace expands all the desires and assets.

सरसिजनिलये सरोजहस्ते
धवलतमांशुकगन्धमाल्यशोभे।
भगवति हरिवल्लभे मनोज्ञे
त्रिभुवनभूतिकरि प्रसीद मह्यम् ॥15॥
अर्थ – भगवति हरिप्रिये ! तुम कमलवन में निवास करनेवाली हो, तुम्हारे हाथों में लीलाकमल सुशोभित है। तुम अत्यन्त उज्ज्वल वस्त्र, गन्ध और माला आदि से शोभा पा रही हो। तुम्हारी झाँकी बड़ी मनोरम है। त्रिभुवन का ऐश्वर्य प्रदान करनेवाली देवि ! मुझपर प्रसन्न हो जाओ।

दिग्घस्तिभिः कनककुम्भमुखावसृष्ट –
स्वर्वाहिनीविमलचारुजलप्लुताङ्गीम्।
प्रातर्नमामि जगतां जननीमशेष –
लोकाधिनाथगृहिणीममृताब्धिपुत्रीम् ॥16॥
अर्थ – मैं सुबह-सुबह भगवान विष्णु की गृहिणी जगज्जननी लक्ष्मी को, जो सभी लोकों के अधीक्षक और क्षीरसागर की पुत्री हैं, उन्हें आकाशगंगा के शुद्ध और सुंदर जल से नमन करता हूं, जिसे दिग्गजों द्वारा स्वर्ण कलश के मुंह से गिराया गया था।
Means – I bow early in the morning to Jagajjanani Lakshmi, the housewife of Lord Vishnu, the superintendent of all the worlds, and daughter of Kshirsagar, with the pure and beautiful water of the Milky Way that was dropped from the mouth of the golden urn by giants.

कमले कमलाक्षवल्लभे
त्वं करुणापूरतरङ्गितैरपाङ्‌गैः।
अवलोकय मामकिञ्चनानां
प्रथमं पात्रमकृत्रिमं दयायाः ॥17॥
अर्थ – कमलनयन केशव की प्यारी कामिनी कमले! मैं गरीब लोगों में सबसे आगे हूं, इसलिए मैं आपकी कृपा का स्वाभाविक पात्र हूं। तुम मुझे करुणा की बाढ़ की बहती लहरों की तरह व्यंग्य से देखते हो।
Means – Kamalnayan Keshav's lovely Kamini Kamale! I am the foremost among the poor people, therefore I am a natural deserving of your grace. You look at me with sarcasm like the flowing waves of a flood of compassion.

स्तुवन्ति ये स्तुतिभिरमूभिरन्वहं
त्रयीमयीं त्रिभुवनमातरं रमाम्।
गुणाधिका गुरुतरभाग्यभागिनो
भवन्ति ते भुवि बुधभाविताशयाः ॥18॥
अर्थ – जो लोग प्रतिदिन त्रिभुवनजननी भगवती लक्ष्मी की स्तुति इन स्तोत्रों से वेदत्रयी के रूप में करते हैं, वे इस धरती पर महान गुणी और बहुत भाग्यशाली हैं, और विद्वान पुरुष भी उनकी भावनाओं को जानने के लिए उत्सुक हैं।
Means – Those who daily praise Tribhuvanjanani Bhagwati Lakshmi in the form of Vedatrayis with these hymns, are of great quality and very fortunate on this earth, and learned men are also eager to know their sentiments.

॥ इस प्रकार श्रीमत् शंकराचार्य रचित कनकधारा स्तोत्र (Kanakdhara Strot) सम्पूर्ण हुआ ॥

Adi Shankaracharya's Kanakdhara Stotram consists of 21 melodious hymns on Goddess Mata Lakshmi to remove sorrows and give the boon of financial assistance. Kanakadhara Stotram is a powerful Sanskrit hymn dedicated to Goddess Lakshmi, the goddess of prosperity, wealth, fertility, good fortune, and courage. Goddess Mahalakshmi is the divine consort of Lord Vishnu and is believed to protect her devotees from all kinds of miseries and money-related miseries in life.

Sri Kanakadhara Stotra is composed by Guru Adi Shankaracharya, a great Indian philosopher who initiated the Advaita Vedanta philosophy at the behest of his Guru. It is believed that Adi Shankaracharya composed Shri Kanakadhara Stotram in praise of Goddess Lakshmi and prayed to the Goddess to shower wealth on a poor woman and Mother Lakshmi accepted the prayer of Guru Adi Shankaracharya and adopted this powerful Kanakadhara Stotram. Dearest place of praise.


Kanakadhara Stotram Video

Support Us On


More For You

Bhagwan App Logo  Install App from Play Store Now.