Navratri 4th Day - Kushmanda Mata - नवरात्रि चतुर्थ दिन - माँ कूष्मांडा

Navratri ke chaturth din, Maa Kushmanda ji ki pooja ki jati hai. yah Mata Shakti ka 4th svaroop hai, jinhen soory ke samaan tejasvee maana gaya hai. Maa ke svaroop kee vyaakhya kuchh is prakaar hai, Devi kushmaanda va unakee aath bhujaen hamen karmayogee jeevan apanaakar tej arjit karane kee prerana detee hain

Navratri 4th Day - Kushmanda Mata

नवरात्रि चतुर्थ दिन - माँ कूष्मांडा

या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कूष्मांडा रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

Dada Lakhmi Movie 2022

नवरात्रि के चतुर्थ दिन, माँ कूष्माँडा जी की पूजा की जाती है। यह शक्ति का चौथा स्वरूप है, जिन्हें सूर्य के समान तेजस्वी माना गया है। माँ के स्वरूप की व्याख्या कुछ इस प्रकार है, देवी कुष्माँडा व उनकी आठ भुजाएं हमें कर्मयोगी जीवन अपनाकर तेज अर्जित करने की प्रेरणा देती हैं, उनकी मधुर मुस्कान हमारी जीवनी शक्ति का संवर्धन करते हुए हमें हंसते हुए कठिन से कठिन मार्ग पर चलकर सफलता पाने को प्रेरित करती है।

भगवती दुर्गा के चौथे स्वरूप का नाम कूष्माण्डा है। अपनी मंद हंसी द्वारा अण्ड अर्थात् ब्रह्माण्ड को उत्पन्न करने के कारण इन्हें कूष्माण्डा देवी के नाम से अभिहित किया गया है। जब सृष्टि का अस्तित्व नहीं था। चारों ओर अंधकार ही अंधकार परिव्याप्त था। तब इन्हीं देवी ने अपने ईषत् हास्य से ब्रह्माण्ड की रचना की थी। अत: यही सृष्टि की आदि-स्वरूपा आदि शक्ति हैं। इनकी आठ भुजाएं हैं। इनके सात हाथों में क्रमश: कमण्डल, धनुष बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा हैं। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जपमाला है।

एक पौराणिक कथा के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि जब सृष्टि का अस्तित्व नहीं था, तब इन्हीं देवी ने ब्रह्माँड की रचना की थी। ये ही सृष्टि की आदि-स्वरूपा, आदिशक्ति हैं। इनका निवास सूर्यमंडल के भीतर के लोक में है। वहां निवास कर सकने की क्षमता और शक्ति केवल इन्हीं में है।

इनके शरीर की कांति और प्रभा भी सूर्य के समान ही दैदीप्यमान हैं। माँ कूष्माँडा की उपासना से भक्तों के समस्त रोग-शोक मिट जाते हैं। इनकी भक्ति से आयु, यश, बल और आरोग्य की वृद्धि होती है। माँ कूष्माण्डा अत्यल्प सेवा और भक्ति से प्रसन्न होने वाली हैं।

इनका वाहन सिंह है। नवरात्र -पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरुप की ही उपासना की जाती है। इस दिन माँ कूष्माण्डा की उपासना से आयु, यश, बल, और स्वास्थ्य में वृद्धि होती है।

स्त्रोत पाठ

प्रथम दुर्गा त्वहिभवसागर तारणीम्। धन ऐश्वर्य दायिनी शैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

त्रिलोकजननींत्वंहिपरमानंद प्रदीयनाम्। सौभाग्यारोग्यदायनीशैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

चराचरेश्वरीत्वंहिमहामोह विनाशिन। भुक्ति, मुक्ति दायनी,शैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

चराचरेश्वरीत्वंहिमहामोह विनाशिन। भुक्ति, मुक्ति दायिनी शैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

On the fourth day of Navratri, Maa Kushmanda is worshipped. This is the fourth form of Shakti, which is considered as brilliant as the sun. The explanation of the nature of the mother is as follows, Goddess Kushmanda and her eight arms inspire us to earn fast by adopting a karma yogi life, her sweet smile enriches our life force and makes us laugh and walk on the most difficult path to achieve success. Inspires.

The name of the fourth form of Bhagwati Durga is Kushmanda. She has been named Kushmanda Devi because of her soft laughter causing the egg i.e. the universe. When the universe did not exist. There was darkness all around. Then this goddess had created the universe with her godly humour. Therefore, this is the original power of the universe. He has eight arms. In his seven hands, respectively, there are kamandal, bow arrow, lotus-flower, nectar-filled urn, chakra, and mace. On the eighth hand there is a rosary giving all the siddhis and funds.

Support Us On


More For You

Bhagwan App Logo  Install App from Play Store Now.